Saturday, June 9

Ye sab ka sab!



मेरी,
मेरी तन्हाई,
मेरी तभाई,
मेरा अकेलापन,
मेरा ये हाल,
जो तुमने किया है ,
जो तुमने दिया है,
ये सब का सब,


मेरी,
मेरी ग़लती,
मेरा दोष,
जो तुमको चाहा था,
जो तुमको माँगा था,
ये सब का सब,

मेरी,
मेरी खुशी,
मेरी हंसी,
मेरी वो मुस्कान,
जो तुमने छीनी है,
जो तुमसे होती थी,
ये सब का सब,

मेरा,
मेरा दिल,
मेरा प्यार,
जो तुमको दिया था,
जो सिर्फ़ तुमसे किया था,
ये सब का सब,

चाहे अच्छा हो या बुरा,
ये सब का सब,
उस दर्द सा मालूम होता  है , जो बस रह सा जाता है,
उस सपने सा मालूम होता  है , जो शुरू होने से पहले ही,
टूट सा जाता  है 

Photo from- http://www.flickr.com/photos/lel4nd/4277978437/


No comments :

Post a Comment